Filed Under:  RAJASTHAN NEWS

जनता के काम मेरी प्राथमिकता होगी- सिहाग

27th December 2018   ·   0 Comments

झालावाड़.नवनियुक्त जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने गुरूवार को सुबह दस बजे कार्यभार संभाल लिया है। सिहाग को पूर्व जिला कलक्टर डॉ.जितेन्द्र कुमार सोनी ने कार्यभार सौंपा। इसके बाद नवनियुक्त कलक्टर सिहाग ने जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में चल रहे विकास कार्य सहित जिले की भौगोलिक, क्षैशिक व स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली। सिहाग ने बताया कि गुरूवार की मुझे बहुत महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई, झालावाड़ में जो विकास कार्य चल रहे है उन्हें गति देने का मेरा पूरा प्रयास रहेगा। मेरी प्राथमिकता वही रहेगी जो जनता की प्राथमिकता में होगा। जनता के क्या मुद्दे है यह मैंने अधिकारियों से पता किया है,आगामी दिनों में काम करते हुए लोगों को राहत देना मेरी प्राथमिकता में है। जतना की शिकायतों के लिए पूर्व जिला कलक्टर ने पब्लिक ग्रिवांस सेल बना रखी थी, उनके कार्मिकों से मुलाकात है, जो शिकायत जिस विभाग से जुड़ी है वहां उसका निपटारा हो नहीं तो उनका समाधान जनसुनवाई में करना मेेरा धैय है। इसके बाद पत्रकारों से चर्चा के दौरान जिला कलक्टर ने कहा कि जिले में मेडिकल कॉलेज में ईमरजेंसी में रेजीडेंट ही ड््यूटी करते है इसके साथ एक वरिष्ठ चिकित्सक की ड््यटी लगाने की भी बात कही। साथ ही जिले में लगने वाली दवाई की नाईपर फैक्ट्री के बारे में पता करने सहित जिले में यूरिया खाद की परेशानी के बारे में अधिकारियों से फीडबेक लेने की बात कही। साथ ही एक सवाल के जवाब में सिहाग ने कहा कि जिले में सूचना केन्द्र खोलने के बारे में व पूर्व में चल रहे विकास कार्यों को गति देना व आमजन की शिकायतों का त्वरित समाधान करना उनकी प्राथमिकता में हैं।

2012 बेच के आईएएस है सिहाग

कलक्टर सिहाग हरियाणा में हिसार जिले के छोटे से गांव सिवानी बोलान में जन्मे,पूरी पढ़ाई पंचकुला में की। सिहाग की पत्नी रूकमणि भी आईएएस है, वर्तमान बूंदी में कलक्टर बनाया गया है। सिहाग 2012 बेच के आईएएस है। सिद्धार्थ सिहाग के पिता दिलबाग सिंह हरियाणा में चीफ टाउन प्लानर से सेवानिवृत हुए हैं उनका छोटा भाई सिद्धांत दिल्ली में जज है।

न्यायिक,पुलिस सेवा अब आईएएस-

सिद्धार्थ सिहाग की पढाई और उनके आईएएस बनने तक का सफर युवाओं के लिए बहुत प्रेरणादायक है। इनकी आखिरी मंजिल और दिल में जज्बा था कि मैं आईएएस ऑफिसर बनकर समाज की सेवा करूं। इसके लिए कड़ी मेहनत की सभी प्रतियोगी परीक्षा में अपनी तैयारी का आंकलन करना भी एक मंजिल तक पहुँचने का हिस्सा था। आईएएस बनने तक के सफर से पहले इन्हें न्यायिक सेवा का रास्ता मिला जिसके बाद सिविल सेवा में चयन हुआ और रैंकिंग कम होने के चलते पुलिस सेवा में आए लेकिन मंजिल तो भारतीय प्रशासनिक सेवा ही थी। मंजिल पाने के लिए तैयारी लगातार चल रही थी और नौकरी भी।

सिहाग के अनुसार दिल्ली ज्यूडिशियल सर्विस परीक्षा पास करने के बाद देहली के सिविल जज मेट्रोपोलियन मजिस्ट्रेट पर चयन हो गया। ट्रेनिंग कर ही रहा था कि आईएएस का परिणाम आ गया और 148 वीं रैंक मिली। मुझे आईपीएस कैडर मिला और मैं नेशनल पुलिस एकेडमी हैदराबाद गया। आईपीएस की ट्रेनिंग के साथ ही आईएएस बनने का सपना नहीं छोड़ा और उसकी तैयारी साथ में जारी रखी। आईएएस की परीक्षा पूरी तैयारी के साथ दी और मुझे 148 से सीधे 42वीं रैंक मिली। इसके लिए मैंने तीनों ही कॉम्पीटिशन के लिए किसी भी प्रकार की कोचिंग नहीं की। आईएएस की तैयारी के दौरान इंटरनेट से पुराने आईएएस के अनुभव जरूर लिए। वर्तमान में उदयपुर नगर निगम के कमिश्नर और स्मार्ट सिटी सीईओ से उन्हें नई अशोक गहलोत सरकार में झालावाड़ कलक्टर लगाया गया है।

मेडिकल कॉलेज का किया निरीक्षण

नव नियुक्त जिलाकलक्टर ने सिद्धार्थ सिहाग ने गुरूवार शाम को एसआरजी चिकित्सालय व मेडिकल कॉलेज का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान पाई गई कमियों को दूर करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।

मेडिकल कॉलेज एक्जीक्यूटिव कमेटी से की चर्चा

व नियुक्त जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने मेडिकल कॉलेज टीचर्स ऐसोशिएशन से मुलाकात की। इस दौरान सचिव एंव विभागध्यक्ष टीबी एवं चेस्ट डॉ.सुनील विजय,पैथोलॉजी विभाग की प्रो. डॉ. चेतना जैन, मेडिसिन विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. माधुरी मीणा से कॉलेज के कई मुद्दो पर चर्चा की।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles