Filed Under:  RAJASTHAN NEWS

चुनाव / राजस्थान की 7 हॉट सीटें; यहां मुकाबला होगा रोचक, इन पर रहेंगी देश की नजरें

18th November 2018   ·   0 Comments

  • राजस्थान की टोंक सीट पर सचिन पायलट का मुकाबला मौजूदा विधायक अजीत सिंह मेहता से
  • सरदारपुरा से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मैदान में, पिछला चुनाव 18478 वोटों से जीते थे
  • जयपुर. राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सामने जसवंत सिंह के बेटे और कांग्रेस नेता मानवेन्द्र सिंह को उतरने के साथ ही झालरापाटन सबसे चर्चित सीट हो गई है। जीत-हार के पीछे न भी जाएं तो भी इस सीट पर अब लोगों की दिलचस्पी बढ़ गई है। राजस्थान में इस चुनाव में ऐसी सात सीटें हैं, जहां मुकाबला चर्चित रहेगा, जिनके नतीजों पर देश की नजरें टिकी रहेंगी।

    1‌. झालरापाटन : वसुंधरा  VS  मानवेन्द्र

    वसुंंधरा : यहां से तीन बार विधायक। चौथी बार मैदान में। पिछला चुनाव 60896 मतों से जीता था। झालावाड़ से पांच बार सांसद रहीं।
    मानवेंद्र सिंह : बाड़मेर-जैसलमेर से एक बार सांसद रह चुके हैं। पिछली बार शिव विधानसभा सीट से कांग्रेस अमीन खां को 31425 वोटों से हराया था। इस बार उन पर सबकी निगाहें होंगी।

    2. नाथद्वारा : सीपी VS महेश प्रताप

  • सीपी जोशी : चार बार विधायक रहे जोशी वर्ष 2008 के विधानसभा चुनाव में एक वोट से हारे थे। पिछली बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ा। लोकसभा चुनाव हारे।
    महेश प्रताप सिंह : 11 साल बाद भाजपा में लौटे। शेखावत सरकार में मंत्री रहे शिवदान सिंह के भतीजे हैं। शिवदान ने वर्ष 1990 में जोशी को हरा दिया था।3. सपोटरा : गोलमा  VS  रमेश मीणा

    गोलमा देवी : डाॅ. किरोड़ी की पत्नी। गहलोत सरकार में मंत्री रही। गत चुनाव दो सीटों से लड़ी। राजगढ़-लक्ष्मणगढ़ से जीती। महुआ से हारी। भाजपा से मैदान में।
    रमेश मीणा : कांग्रेस विधायक दल के उपनेता। किरोड़ी के धुर विरोधी हैं।

    4. उदयपुर : गिरिजा VS  कटारिया

    गिरिजा व्यास : एक बार कटारिया को हरा चुकी हैं। कांग्रेस का बड़ा चेहरा हैं।
    गुलाब चंद कटारिया : गिरिजा से एक बार विधानसभा और एक बार लोकसभा का चुनाव हारे। इसलिए इस बार मुकाबला कड़ा हो गया है।

    5. डीग : विश्वेंद्र VS शैलेश

    विश्वेंद्र सिंह :  पिछला चुनाव 11162 वोटों से जीते। दिगंबर सिंह को हराया था। वर्ष 2008 में विश्वेंद्र हार गए थे। भरतपुर सीट से सांसद भी रहे हैं।
    डाॅ. शैलेश सिंह : दिगंबर सिंह के पुत्र हैं और पहली बार चुनाव लड़ेंगे। दिगंबर…विश्वेंद्र को चुनाव हरा भी चुके थे। यहां भावनाएं भी वोटाें पर असर डालेंगी।

    6. सरदारपुरा  : गहलोत VS शंभूसिंह

    अशोक गहलोत : दो बार मुख्यमंत्री रहे गहलोत पांचवी बार मैदान में होंगे। मोदी लहर के बावजूद 18478 वोटों से जीते।
    शंभू सिंह खेतासर : खेतासर ने गत चुनाव में 59 हजार से अधिक वोट हासिल किए थे।

    7. टाेंक : सचिन  VS  अजीत

    सचिन पायलट : दौसा एवं अजमेर से सांसद रहे। पिछले चुनाव में कांग्रेस की जकिया जमानत भी नहीं बचा सकी थी।
    अजीत सिंह मेहता : मौजूदा टोंक विधायक। पिछला चुनाव 30343 वोटों से जीते थे। दूसरे नंबर पर निर्दलीय सउद रहे।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles