Filed Under:  RAJASTHAN NEWS

गजेंद्र सिंह शेखावत ने बताई दिवाली से चुनावों तक राजस्थान में ये रहेगी BJP की रणनीति, ऐसे करेंगे वोटबैंक मजबूत |

6th November 2018   ·   0 Comments

प्रदेश में चुनाव की नजदीकियों के साथ पार्टियों की तैयारियों ने भी जोर पकड़ लिया है। भारतीय जनता पार्टी ने चुनावी रणनीति के चलते नेताओं कार्यकर्ताओं को रण में उतार दिया है। हाल ही में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी प्रेस वार्ता की।

इस दौरान शेखावत ने कहा की ये निश्चित है की बीजेपी कार्यकर्ता की शक्ति के आधार पर काम करने वाली पार्टी है प्रदेश के बड़े नेता जिलेवार गए थे। उनके साथ विस्तार से चर्चा हुई । सब लोगों ने बूथ तक सम्पर्क किया। दो से चार नम्बर तक बूथ सम्पर्क के तहत प्रदेश के 7808 शक्ति केंद्रो तक 42 हज़ार बूथ पर सम्पर्क हुआ। बीजेपी एक करोड़ परिवार तक जाकर सम्पर्क करेगी। अब तक 70 लाख घरों तक सम्पर्क कर चुके हैं।दिवाली त्यौहार को लेकर शेखावत ने कहा कि 5 से 8 नवम्बर तक दिवाली का त्यौहार है। बीजेपी इसे बड़े स्तर पर मनाएगी। प्रदेश के एक हज़ार 32 मंडलो पर कार्यकर्ता स्नेह मिलन समारोह आयोजित किए जाएंगे। आयोजन में कार्यकर्ता परिवार सहित शामिल होंगे। दिवाली के बाद नगर पालिका स्तर पर 8 से 11 नवंबर तक प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन होंगे। इसमें हम कैसे विकास करने वाले है उस बारे में चर्चा करेंगे। 10 से 11 नवंबर को परिवारो के पास जाएंगे। मेरा परिवार भाजपा का परिवार के तहत भाजपा का चिन्ह लगाएंगे ।शेखावत ने पायलट के आरोपो पर कहा उनका धन्यवाद की हम उनके सचिवों को फ़्री करवाने में कामयाब हो गए। कांग्रेस का चरित्र सामने आ गया, वे बेनक़ाब हो गए है । हमारे पास इसके प्रमाण भी है। नया गाना नाम बड़े काम खोटे टिकट के लिए लेते हैं पैसे।गौरतलब है कि सोमवार को कांग्रेस के चार प्रदेश सह प्रभारी और स्क्रीनिंग कमेटी के दो सदस्यों पर पैसा लेकर प्रत्याशियों के पैनल में नेताओं के नाम शामिल करने के का हल्ला मचा था। इसी के तहत एक वीडियो भी वायरल हो गया। इसमें शौचालय में पोस्टर चिपका नजर आ रहा है। उसमें लिखा है कि फलौदी की टिकट बिक गया। मैसेज में यह पोस्टर कांग्रेस मुख्यालय के शौचालय में चिपका होने का दावा किया।आरोप यहीं नहीं थमे। चर्चाएं शुरू हो गईं कि आपराधिक प्रवृति के लोगों के साथ पार्टी में निष्क्रिय नेताओं को भी पैनल में शामिल करने की शिकायतें राहुल गांधी तक पहुंच गई हैं। नेताओं ने दावा करना शुरू कर दिया कि इन सभी को राहुल ने शिकायत मिलने के बाद प्रक्रिया से बाहर कर दिया है। प्रदेश में फोन घनघना उठे। हालांकि जब इस संबंध में पत्रिका ने पार्टी के बड़े नेताओं से बात की तो उन्होंने अफवाह बता दिया।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles