Filed Under:  National

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव: क्या इस बार हार का सिलसिला तोड़ पाएंगी करुणा शुक्ला?

24th October 2018   ·   0 Comments

छत्तीसगढ़ में इस बार दिलचस्प चुनावी तस्वीर उभर रही है। सीएम रमन सिंह के सामने भाजपा की सत्ता बनाए रखने की चुनौती है। भाजपा यहां 15 साल से सत्ता पर काबिज है। रमन सिंह राजनांदगांव से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके सामने हैं दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला जिन्होंने भाजपा छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा है।कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला को राजनांदगांव से रमन सिंह के खिलाफ उतारा है।करुणा शुक्ला जांजगीर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा से सांसद रह चुकी हैं। साल 2013 में विधानसभा चुनाव के बाद करुणा शुक्ला ने भाजपा से इस्तीफा देकर कांग्रेस का दामन थाम लिया था। उन्होंने भाजपा पर उपेक्षा का आरोप लगाया था।कांग्रेस को उम्मीद है कि मुख्यमंत्री के खिलाफ करुणा शुक्ला को उम्मीदवार बनाए जाने का उसे फायदा होगा। कांग्रेस से जुड़ने के बाद से करुणा राजनांदगांव क्षेत्र में लगातार सक्रिय हैं। कांग्रेस का कहना है कि वह पार्टी की मजबूत उम्मीदवार हैं और वह सिर्फ मुख्यमंत्री को चुनौती नहीं देंगीं बल्कि उनके खिलाफ जीत भी हासिल करेंगी।कांग्रेस में आने के बाद से करुणा शुक्ला ने लगातार मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है। कांग्रेस में प्रवेश के बाद पार्टी ने उन्हें साल 2014 लोकसभा चुनाव में बिलासपुर से अपना उम्मीदवार बनाया था। वह भाजपा के लखनलाल साहू से चुनाव हार गई थीं।इससे पहले साल 2009 के लोकसभा चुनाव में वह भाजपा के टिकट से कोरबा सीट से चुनाव लड़ी थीं। लेकिन कांग्रेस के चरणदास महंत से चुनाव हार गई थीं।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles