Filed Under:  TOP NEWS

जोरों पर जश्न-ए-आजादी की तैयारियां, लाल किला भी रोशनी से जगमगा उठा

11th August 2018   ·   0 Comments

आजादी का दिन यानि 15 अगस्त. आजादी की 68वीं सालगिरह पर हर साल की तरह इस साल भी देश भर में उत्साह है. स्वतंत्रता दिवस के लिए देश के कई हिस्सों में तैयारियां शुरू कर दी गईबुधवार को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाएगा। जिसको लेकर देशभर में तैयारियां चल रही हैं। सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। वहीं देश की प्राचीन स्मारकों में शुमार लाल किला पर जगमगा उठा है। जश्न-ए-आजादी को देखते हुए करीब 2600 लैंप्स की रोशनी से लाल किला की दीवारें दूधिया रोशनी से प्रकाशमय हो गईं जो आने-जाने वालों को आकर्षित कर रहीं थी। संस्कृति मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि इस ऐतिहासिक स्थल पर पहली बार किले के सामने की दीवार और इसके दो प्रमुख द्वारों लाहौरी गेट तथा दिल्ली गेट पर लैम्प जलाए जा रहे हैं। लैम्प जलाने के समारोह का आयोजन शुक्रवार को संस्कृति मंत्री महेश शर्मा की उपस्थिति में किया गयास्वतंत्रता दिवस पर देश के प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर से जनता को संबोधित करते हैं। पूरा देश पीएम के भाषण बड़े ही ध्यान से सुनते हैं। पीएम मोदी देश से संबंधित कई मुद्दों पर बात करते हैं, लेकिन इस बार फिर से भाषण के मुद्दे जनता चुन सकती है। पीएम मोदी ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर दिए जाने वाले अपने भाषण के लिए पिछले साल की तरह इस साल भी जनता से सुझाव मांगे हैं। देश की आवाम MyGov ओपन फोरम या नरेंद्र मोदी साइट या ऐप पर अपने सुझाव दे सकते हैं। पीएम मोदी ने इस बाबत ट्वीट भी किया।लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपना भाषण देंगे, जो उनका अपनी सरकार के कार्यकाल का आखिरी भाषण होगा। कयासें लगाई जा रही हैं कि पीएम मोदी का ये आखिरी भाषण असरदार होने के साथ-साथ कई मायनों में अहम भी होगा। अपने भाषण में मोदी सरकार में शुरू हुई योजनाएं गिनवाते नजर आएंगे। इस भाषण को यादगार बनाने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके लिए मंत्रियों को भी लगाया गया है। खबरों के मुताबिक पीएम मोदी का भाषण तैयार करने की जिम्मेदारी मंत्रियों के समूह ( GoM) को दी गई है। जो पीएम मोदी का भाषण तैयार करेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मंत्री समूह को गृहमंत्री राजनाथ सिंह लीड कर रहे हैं। भाषण के आधार पर आने वाले चुनावों में मोदी सरकार के क्या मुद्दे हो सकते हैं, वो चीज़ की झलक भी देखने को मिलेगी। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस बार ‘प्रधानसेवक’ मोदी नौकरशाहों द्वारा तैयार किया गया भाषण नहीं देना चाहते हैं, लिहाजा मंत्री को इसका दायित्व दिया गया है। बता दें कि मोदी सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियों को इस भाषण में जगह मिलेगी, जिससे कि लोगों को सरकार का लेखाजोखा दिया जा सके।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles