Filed Under:  TOP NEWS

सेंट्रल जेल से रिहा हुई लड़कियों ने बाहर आकर पुलिस पर लगाए आरोप; कहा- अंदर कराया गया प्रेग्नेंसी टेस्ट

15th June 2018   ·   0 Comments

भोपाल. लाल परेड ग्राउंड में सीएम की सभा में हंगामा करने वाली लड़कियों रिहा हो गई हैं। उनकी जमानत महिला कांग्रेस ने कराई है। रिहा होने के बाद इन लड़कियों ने पुलिस पर आरोप लगाए हैं कि जेल में उनका प्रेग्नेंसी टेस्ट कराया गया है, और पुलिस ने अभद्रता की।

लड़कियों ने आरोप लगाया कि ये सब मामा शिवराज के इशारे पर हुआ है। हमें पूरे शहर में घुमाया गया और फिर सेंट्रल जेल ले जाया गया, वहां हमारे साथ अभद्रता की गई। जेल में प्रेग्नेंसी टेस्ट हुआ, टेस्ट करने वाला जेल का कोई प्रोफेशनल डॉक्टर नहीं था। हमें मर्डरर महिला कैदियों के साथ रखा गया। आखिर हमारा प्रेग्नेसी टेस्ट किस नियम के आधार पर किया गया। हमारे कपड़े चेंज कराए गए।

– असल में ये वह लड़कियां हैं, जिन्होंने पुलिस भर्ती में भाग लिया था और चुनी गई थीं, लेकिन ऊंचाई कम होने पर बाहर कर दिया गया है। लड़कियों ने कहा कि हम अपने हक के लिए लड़ रहे हैं, हमें पोस्टिंग दी जाए, वरना हम मामले को आगे लेकर जाएंगे, इसे ठंडा नहीं होने देंगे।

इस वजह से मचा हंगामा
– पुलिस आरक्षक भर्ती में 3 सेंटी मीटर की छूट को लेकर लड़कियां धरना प्रदर्शन कर रही हैं। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिस में महिला उम्मीदवारों की भर्ती के लिए ऊंचाई में छूट देने की घोषणा की थी। कहा था कि इस भर्ती में महिलाओं को लंबाई में 3 से 4 सेंटी मीटर की छूट दी जाएगी। लिखित और शारीरिक परीक्षा पास कर लेने के बावजूद ऊंचाई कम होने के कारण प्रदेश की सैकड़ों लड़कियों को भर्ती से बाहर कर दिया गया। इसके विरोध में लड़कियों ने सीएम हाउस का घेराव किया था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

सीएम के कार्यक्रम में किया था हंगामा
– बुधवार को हुए लाल परेड मैदान पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज चौहान के भाषण के दौरान लड़कियां यहां पहुंचीं और नारेबाजी करने लगीं। इस पर पुलिस ने उन्हें वहां से हटाने के लिए पकड़ लिया। उन्हें गिरफ्तार कर सेंट्रल जेल ले जाया गया। जहां उन्हें रात भर रखा गया।
महिला कांग्रेस ने फूंका सीएम का पुतला
– जिला महिला कांग्रेस ने जेल के सामने उग्र प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री का पुतला
फूंका। महिला कांग्रेस ने महिला पुलिस आरक्षक अभ्यर्थियों की गिरफ्तारी और जेल पहुंचाए जाने के विरोध में किया। महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष संतोष जितेन्द्र कसाना ने कहा कि जब तक महिला पुलिस अभ्यार्थियों को जेल से रिहा नही किया जाएगा। तब तक महिला कांग्रेस यहीं डटी रहेंगी।

कमलनाथ का ट्वीट…
– पीसीसी चीफ कमलनाथ ने ट्वीट कर मामले की आलोचना की है। उन्होंने लिखा, “मामा के राज में भांजियां, मामा की पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा में लंबाई में छूट की घोषणा को पूरी करने की माँग को लेकर पिछले 3 दिनो से भोपाल में धरना दे रही थी। जब वो लाल परेड मैदान में मामा से मिलने गयी तो मिलना तो दूर, उलटा जेल भिजवा दिया गया। ये है मामा का भांजियों के लिये सम्मान।”

 

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles