Filed Under:  LATEST NEWS

मन की बात : मोदी बोले, VIP संस्कृति को हटाने, EPI संस्कृति को लाने का वक्त

30th April 2017   ·   0 Comments

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि मन की बात में विविधताओं से भरी हुई जानकारियां मिलती हैं। मन की बात पर आये सुझाओं पर सरकार अध्ययन करती है। मोदी ने कहा, देश के हर कोने में शक्तियों का अम्बार पड़ा है।

मोदी ने कहा, मैं सबसे पहले तो अधिकतम सुझाव जो कि कर्मयोगियों के हैं, समाज के लिए कुछ न कुछ कर गुजरने वाले लोगों के हैं। मैं उनके प्रति आभार व्‍यक्‍त करता हूं। मोदी ने कहा, ये चीजें जब ध्यान में आयी तो मुझे लगा कि ये सुझाव सामान्य नहीं हैं, ये अनुभव के निचोड़ से निकले हुए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, कई युवा कंफर्ट जोन में ही रहना चाहते हैं। लेकिन मैं गर्मियों की छुट्टी में जाने वाले युवाओं को तीन सुझाव देना चाहता हूं। पहला तो नई जगह घूमने जाएं, नये हुनर सीखें और बिना रिजर्वेशन की ट्रेन यात्रा करें।

पीएम मोदी ने कहा कि हमें घर की छतों पर पक्षियों के लिए बर्तनों में पानी और दाना रखना चाहिए। पशुओं के लिए पानी की व्यवस्था करनी चाहिए। गुजरात के जगत भाई ने अपनी एक किताब सेव स्पैरोज भेजी है। इसमें गोरैया को बचाने के लिए कई प्रयास उल्लेखित हैं। कभी-कभी दूध, अखबार देने वाला और पोस्टमैन हमारे घर आता है तो हम उसे पानी पिलाना भी भूल जाते हैं। कुछ नया खोजें, आपस में दूरियां नहीं होनी चाहिए`।

पीएम मोदी ने कहा कि “परीक्षाएं खत्म हो गई हैं। समर वैकेशन शुरू हो गई है। कोशिश करें कि इसमें नई जगहों पर जाएं। नए अनुभव और अपनी जिज्ञासा को पूरा करने के लिए काम करना चाहिए।” “क्या कभी आपका मन करता है कि कभी बिना रिजर्वेशन में आम यात्रियों के बीत सफर करें और उन लोगों के साथ बात करें। शाम को गरीब बच्चों के साथ फुटबाल खेलें। एक बार आपने ये किया तो बार-बार करने का मन करेगा।” “किसी वॉलेंट्री ऑर्गनाइजेशन, समर कैंप के साथ जुड़ जाइए। बिना पैसे लिए दूसरों को नई चीजें सिखा सकते हैं।”

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles