Filed Under:  TOP NEWS

एनडीटीवी पर एकदिनी बैन के विरोध में देशभर का मीडिया जगत एक

4th November 2016   ·   0 Comments

नई दिल्ली।

केंद्र सरकार के द्वारा एनडीटीवी पर एकदिनी बैन के विरोध में देशभर का मीडिया जगत एक हो रहा है। चौतरफा आलोचना के बावजूद न तो सरकार बैन को लेकर नरम पड़ी है और न ही अब तक चैनल के द्वारा कोर्ट की सहायता ली गई है। हालांकि चैनल ने सरकार को लिखित जवाब दे दिया था।

मीडिया जगत की प्रतिष्टित द एडीटर्स गिल्ड ऑफ इण्डिया ने इसे इमरजेंसी जैसा करार देते हुए वापस लेने की मांग की है। प्रमुख विपक्षी पार्टियों ने भी मोदी सरकार की इस कार्यवाही की कड़ी आलेचना की है। कांग्रेस के राहुल गांधी, आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल, तृणमूल कांग्रेस पार्टी की ममता बनर्जी और उमर अब्दुल्ला ने भी ट्वीट कर सरकार की इस कार्यवाही को इमरजेंसी करार दिया। उल्लेखनीय है कि सरकार ने एनडीटीवी चैनल पर 9 नवंबर को रात 12 बजे से 10 नवंबर को रात 12 बजे तक ब्लेक आउट की कार्यवाही की है।

यह था असल मामला

दरअसल, सरकार के इस आदेश के पीछे का प्रत्यक्ष कारण एनडीटीवी चैनल की 2 जनवरी 2016 को पठानकोट पर हुए आतंकवादी हमले की कवरेज को बताया गया है। केंद्र सरकार का दावा है कि उस दौरान कवरेज से आतंकवादियों के आकाओं को एनडीटीवी चैनल की रिपोर्टिंग से संवेदनशील जानकारी मिली थी। मोदी सरकार के द्वारा दिए गए कारण बताओ नोटिस के जवाब में चैनल ने कहा कि उसकी कवरेज बिना किसी को नुकसान पहुंचाए संतुलित थी। चैनल का दावा है कि उसके कवरेज में ऐसी कोई सूचना नहीं दी गई जो दूसरे मीडिया चैनल या अखबारों से अलग थी।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles