Filed Under:  National

प्रमुख स्वामी महाराज हुए ब्रह्मलीन

13th August 2016   ·   0 Comments

अहमदाबाद. बोचासणवासी अक्षरपुरुषोत्तम संस्थान के मुखिया प्रमुख स्वामी महाराज (95) शनिवार को ब्रह्मलीन हो गए। शाम छह बजे उन्होंने सारंगपुर स्थित स्वामीनारायण मंदिर में अंतिम सांस ली। करीब एक साल से अस्वस्थ्य चल रहे प्रमुख स्वामी महाराज की एक महीने से तबियत ज्यादा बिगड़ गई थी। सीने में इन्फेक्शन होने के चलते 10 चिकित्सकों की टीम दिन-रात उनकी मंदिर परिसर में ही देखरेख कर रही थी। शुक्रवार को तबियत ज्यादा बिगड़ जाने के चलते उनके दर्शन एक बार फिर श्रद्धालुओं के लिए बंद किए गए थे। वडोदरा जिले की पादरा तहसील के चाणसद गांव में मोतीभाई व दीवाळी बा के घर सात दिसंबर 1921 को जन्मे प्रमुख स्वामी का बचपन का नाम शांतिलाल पटेल था। 22 नवंबर 1939 को अहमदाबाद में शास्त्री महाराज ने को प्राथमिक दीक्षा प्रदान की। 10 जनवरी 1940 को गोंडल में भगवत दीक्षा दी गई। वे स्वामीनारायण भगवान के पांचवें आध्यात्मिक वारसदार थे। 1950 में शास्त्री महाराज की ओर से स्थापित बोचासणवासी अक्षर पुरुषोत्तम संस्थान (बीएपीएस) के अध्यक्ष भी थे। प्रमुख स्वामी के निधन से स्वामीनारायण सम्प्रदाय में शोक व्याप्त हो गया। उधर, जानकारी मिलते ही स्वामीनारायण सम्प्रदाय के श्रद्धालुओं साळंगपुर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। उधर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी प्रमुख स्वामी के निधन पर श्रद्धांजलि दी।

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles