Filed Under:  COURT NEWS

प्रदेश के साढ़े तेरह हजार सरकारी स्कूलों में जल्द ही श्रीमद्भागवत गीता रखी जाएंगी

22nd December 2015   ·   0 Comments

geeta

राजस्थान के शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने सोमवार को अजमेर में कहा है कि जल्द ही प्रदेश की युवा पीढ़ी को गीता के दर्शन से अवगत कराने के लिए सरकारी स्कूलों के पुस्तकालयों में गीता उपलब्ध कराई जाएंगी.

देवनानी ने यह बात अजमेर के आजाद पार्क में गीता जयन्ती के पावन पर्व एवं राष्ट्र संत स्वामी हृदय राम जी की पुण्य तिथि पर आयोजित 51 अरब राम नाम परिक्रमा समारोह के शुभारम्भ पर कही. उन्होंने कहा कि संतो का साथ समाज के उत्थान के लिए अति आवश्यक है. संतों के सानिध्य से ही युवा पीढ़ी को पथ भ्रष्ट होने से रोका जा सकता है. समाज में इसीलिए संतों का उच्च स्थान है.

मंत्री के अनुसार जीवन मूल्यों का सार गीता में निहित है. प्रत्येक मनुष्य को गीता अवश्य पढऩी चाहिए. गीता जीवन दर्शन है . प्रदेश की युवा पीढ़ी को गीता के महत्व से अवगत कराने के लिए प्रदेश साढ़े 13 हजार विद्यालयों के पुस्तकालयों में गीता की प्रति उपलब्ध करायी जाएगी.

 

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए महापौर धर्मेन्द्र गहलोत ने कहा कि राम नाम अपने आप में सम्पूर्ण है . उन्होंने राम नाम महामंत्र परिक्रमा के लिए आयोजकों को साधुवाद दिया. इससे पूर्व हरिद्वार परमार्थ आश्रम के संत स्वामी चिन्मयानन्द जी महाराज के कर कमलो द्वारा पूजन कर महोत्सव का उद्घाटन किया गया. कार्यक्रम में स्वामी हंसराम जी उदासीन, चम्पालाल जी महाराज, स्वामी शिव ज्योतिषानन्द जी, संत कृष्णनन्द जी महाराज, संत पाठक जी महाराज, महंत दयाल नाथ, स्वामी स्वरूपानन्द जी सहित अनेक संत शामिल हुए.

 

By

Readers Comments (0)


Comments are closed.

Latest Articles